सुबह के स्नान /Morning bath

Mantra

You can use the master spells

गुरु मंत्र का प्रयोग कर सकते है

Vidhi

Is the nickname given to the shower in the morning, four in theology.
1 bath Muni.
Is between 4 to 5 in the morning.
.
2 Dev Bath.
Is between 5 to 6 in the morning.
.
3 Human bath.
Which is between 6 and 8.
.
4 Infernal bath.
After which 8 are used.
Muni bath is best.
Dev bath is better.
Human hair is normal.
Bath demonic religion is denied.
.
Any human should not shower after 8 pm
.
Muni bath .......
👉gr happiness, peace, prosperity, Vindhya, strength, health, consciousness provides.
.
Dev bath ......
👉 fame in your life, Kirti, plus splendor, happiness, peace, contentment, offers.
.
Human bath .....
👉kam success, fortune, good deeds sense of family unity, Tue summer offers.
.
Monstrous bath .....
👉 poverty, loss, Kalesh, money loss, trouble, offers.
.
Any man should not shower after 8.
.
In the past it used to bathe before sunrise.
Especially the woman was home.
.
Whether it be as a woman, mother, wife to be, in the form of seed.
.
That explains the large elderly get home before the sun must be bathed.
.
This money, wealth, Lakshmi, always dwells in you home.
.
At that time, the only man ...... earnings green family moment was complete, and today only four family members earn is not even complete.
.
Because of that we are ourselves. Breaking the old rules to the new rules have their pleasures.
.
...... Is the law of nature, which does not follow the rules of that, that's all get Dushtprinam.
.
Therefore, the adoption of rules in your life. Follow them to the side.
.
Bless you, bless your dear ones.
.
Humans do not repeatedly avatar.
.
Make your life happy.

सुबह के स्नान को धर्म शास्त्र में चार उपनाम दिए है ।
1 मुनि स्नान ।
जो सुबह 4 से 5 के बिच किया जाता है ।
.
2 देव स्नान ।
जो सुबह 5 से 6 के बिच किया जाता है ।
.
3 मानव स्नान ।
जो सुबह 6 से 8 के बिच किया जाता है ।
.
4 राक्षसी स्नान ।
जो सुबह 8 के बाद किया जाता है ।
मुनि स्नान सर्वोत्तम है ।
देव स्नान उत्तम है ।
मानव स्नान समान्य है ।
राक्षसी स्नान धर्म में निषेध है ।
.
किसी भी मानव को 8 बजे के बाद स्नान नही करना चाहिए
.
मुनि स्नान .......
👉घर में सुख ,शांति ,समृद्धि, विध्या , बल , आरोग्य , चेतना , प्रदान करता है ।
.
देव स्नान ......
👉 आप के जीवन में यश , किर्ती , धन वैभव,सुख ,शान्ति, संतोष , प्रदान करता है ।
.
मानव स्नान.....
👉काम में सफलता ,भाग्य ,अच्छे कर्मो की सूझ ,परिवार में एकता , मंगल मय , प्रदान करता है ।
.
राक्षसी स्नान.....
👉 दरिद्रता , हानि , कलेश ,धन हानि , परेशानी, प्रदान करता है ।
.
किसी भी मनुष्य को 8 के बाद स्नान नही करना चाहिए।
.
पुराने जमाने में इसी लिए सभी सूरज निकलने से पहले स्नान करते थे ।
खास कर जो घर की स्त्री होती थी ।
.
चाहे वो स्त्री माँ के रूप में हो,पत्नी के रूप में हो,बेहन के रूप में हो ।
.
घर के बडे बुजुर्ग यही समझाते सूरज के निकलने से पहले ही स्नान हो जाना चाहिए ।
.
ऐसा करने से धन , वैभव लक्ष्मी , आप के घर में सदैव वास करती है ।
.
उस समय...... एक मात्र व्यक्ति की कमाई से पूरा हरा भरा पारिवार पल जाता था , और आज मात्र पारिवार में चार सदस्य भी कमाते है तो भी पूरा नही होता ।
.
उस की वजह हम खुद ही है । पुराने नियमो को तोड़ कर अपनी सुख सुविधा के लिए नए नियम बनाए है ।
.
प्रकृति ......का नियम है, जो भी उस के नियमो का पालन नही करता ,उस का दुष्टपरिणाम सब को मिलता है ।
.
इसलिए अपने जीवन में कुछ नियमो को अपनाये । ओर उन का पालन भी करे ।
.
आप का भला हो ,आपके अपनों का भला हो ।
.
मनुष्य अवतार बार बार नही मिलता ।
.
अपने जीवन को सुखमय बनाये ।