देवी-देवताओं की परिक्रमा

Mantra

Vidhi

The scriptures tell us that virtue is derived from orbiting much worship of any deity is derived from. The original meaning of the circled his entire mental and physical feeling that you are orbiting the god or give her devotion.

Actions marriages or four times round the fire seven rounds legislation. Any deity of the temple is a rule of thumb of three rotating. Master a round of school legislation. Master's in religious worship as against any concept of three orbiting legislation.

Memorial etc. Brahmin libation in karma, cognizant of margins, be supposed to chant Gayatri, making him his four rounds of food legislation.

That fig 1, 3, 108, 101 orbiting legislation. Orbiting Lord Vishnu, Goddess Lakshmi, is pleased Pitridevon. Vrindavan, Krishna bhakti is derived from the orbiter and the accomplishment of the task is favored.


hamaare shaastron mein bataaya gaya hai ki parikrama se hee jitana puny praapt hota hai utana kisee bhee devee-devata kee aaraadhana karane se praapt hota hai. parikrama ka mool arth hai apanee sampoorn maanasik aur shaareerik bhaavana ko us devata athava jisakee bhee aap parikrama kar rahe hain usake prati samarpan kar dena.

vivaah aadi kaaryon ke samay agni kee saat parikrama ya chaar parikrama karane ka vidhaan hai. kisee bhee devee-devata kee, mandir kee teen parikrama karane ka sarvamaany niyam hai. vidyaalay mein guru kee ek parikrama ka vidhaan hai. kisee bhee sankalpit sakaam dhaarmik pooja-paath mein aachaary kee teen parikrama ka vidhaan hai.

shraaddh aadi karm mein jo braahman tarpan, maarjan ka jaanakaar, gaayatree jap karane vaala ho, usako bhojan karaakar usakee chaar parikrama ka vidhaan hai.

aise hee peepal vrksh kee 1, 3, 108, 101 parikrama ka vidhaan hai. parikrama karane se bhagavaan vishnu, maata lakshmee, pitrdevon ko prasann kiya ja sakata hai. vrndaavan kee parikrama karane se bhagavaan krshn kee bhakti praapt hotee hai tatha isht kaary kee siddhi hotee hai.

हमारे शास्त्रों में बताया गया है कि परिक्रमा से ही जितना पुण्य प्राप्त होता है उतना किसी भी देवी-देवता की आराधना करने से प्राप्त होता है। परिक्रमा का मूल अर्थ है अपनी संपूर्ण मानसिक और शारीरिक भावना को उस देवता अथवा जिसकी भी आप परिक्रमा कर रहे हैं उसके प्रति समर्पण कर देना।

विवाह आदि कार्यों के समय अग्नि की सात परिक्रमा या चार परिक्रमा करने का विधान है। किसी भी देवी-देवता की, मंदिर की तीन परिक्रमा करने का सर्वमान्य नियम है। विद्यालय में गुरु की एक परिक्रमा का विधान है। किसी भी संकल्पित सकाम धार्मिक पूजा-पाठ में आचार्य की तीन परिक्रमा का विधान है।

श्राद्ध आदि कर्म में जो ब्राह्मण तर्पण, मार्जन का जानकार, गायत्री जप करने वाला हो, उसको भोजन कराकर उसकी चार परिक्रमा का विधान है।

ऐसे ही पीपल वृक्ष की 1, 3, 108, 101 परिक्रमा का विधान है। परिक्रमा करने से भगवान विष्णु, माता लक्ष्मी, पितृदेवों को प्रसन्न किया जा सकता है। वृंदावन की परिक्रमा करने से भगवान कृष्ण की भक्ति प्राप्त होती है तथा इष्ट कार्य की सिद्धि होती है।